वशीकरण तथा किया कराया उतरने का गोरख नाथ का मंत्र

वशीकरण तथा किया कराया उतरने का गोरख नाथ का मंत्र

वशीकरण एक खतरनाक क्रिया होती है जिसके द्वारा किसी भी वांछित कार्य के लिए लिए साधक किसी को भी अभिमंत्रित करके अपना कार्य करवा सकता है। वशीकरण का ज्यादा उपयोग किसी का नुकसान करवाने के लिए, उसका फायदा उठाने के लिए जाता है। भगवान गोरख नाथ जी का ये मंत्र आपको किसी भी प्रकार का वशीकरण हो उसे उतरने में सक्षम है, ध्यान रहे इसका साद उपयोग ही किया जाना चाहिए। भगवन गोरख नाथ जी का ये मंत्र किसी भी प्रकार का वशीकरण हो उससे हटाकर आपकी रक्षा करेगा।

गोरख नाथ जी द्वारा रचित शाबर मंत्र अन्यंत प्रभावशाली होते है ये अपने आप में जागृत होते है इनको सिद्ध

gorakh nath

 करने की जरूरत नही होती है अपने आप में ही ये सिद्ध होते है और इनका असर भी जल्दी होता है | निचे दिया गया शाबर मंत्र किसी भी प्रकार का वशीकरण हो , उसको उतरने में अंत्यंत प्रभावशाली है |


गुरु गोरख नाथ शाबर मंत्र : –
ॐ वज्र में कोठा, वज्र में ताला
वज्र में बंध्या दस्ते द्वारा
तहां वज्र का लग्या किवाड़ा
वज्र में चौखट, वज्र में कील
जहां से आय, तहां ही जावे
जाने भेजा, जांकू खाए
हमको फेर न सूरत दिखाए
हाथ कूँ, नाक कूँ, सिर कूँ
पीठ कूँ, कमर कूँ, छाती कूँ
जो जोखो पहुंचाए
तो गुरु गोरखनाथ की आज्ञा फुरे
मेरी भक्ति गुरु की शक्ति
फुरो मंत्र इश्वरोवाचा ||

मंत्र प्रयोग विधि : – सात कुओं से जल लाकर इस जल को एक पात्र में एकत्रित कर रोगी को स्नान कराये | रोगी को स्नान कराते समय उपरोक्त मंत्र का उच्चारण करते रहे । वशीकरण व किये-कराये के प्रभाव से रोगी को तुरंत आराम मिलेगा । 

ध्यान रहे हम किसी भी प्रकार की साधना को सिर्फ जानकारी उद्देश्य से ही आपको पहुंचते है, किसी भी प्रकार की साधना के परिणामसवरुप होने वाले नुक्सान के लिए हम उत्तरदायी नहीं है। किसी पारंगत गुरु की जानकारी से ही किसी भी साधना को करने का प्रयास करें।

teaminderjaal